Home उत्तराखंड सीएम के कोटद्वार दौरे के दौरान फोन पर बात करना पुलिस अधिकारी...

सीएम के कोटद्वार दौरे के दौरान फोन पर बात करना पुलिस अधिकारी को पड़ा भारी

नई टिहरी। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के कोटद्वार दौरे के दौरान फोन पर बात करना पुलिस अधिकारी को भारी पड़ गया। इस मामले में मुख्यमंत्री कार्यालय ने ऐक्शन लिया है। सीएम के दौरे के दौरान लापरवाही बरतने के मामले में पुलिस अधिकारी को टिहरी के नरेंद्रनगर स्थित पुलिस ट्रेनिंग सेंटर भेज दिया गया है। जबकि जया बलूनी को पौड़ी का चार्ज दिया गया है।
दरअसल, 14 अगस्त को मुख्यमंत्री धामी कोटद्वार में आपदा क्षेत्र के दौरे पर थे। उस दौरान क्षेत्र के ही एक पुलिस अधिकारी फोन पर बात कर रहे थे। उनके द्वारा फोन पर बात उस वक्त की जा रही थी, जब मुख्यमंत्री हेलीकॉप्टर से उतारकर उनके पास से गुजर रहे थे। प्रोटोकॉल के हिसाब से मुख्यमंत्री के साथ अधिकारी को होना था, लेकिन इस दौरान वे लगातार फोन पर बात कर रहे थे, जो उन्हें भारी पड़ गया। मुख्यमंत्री कार्यालय ने पुलिस मुख्यालय से इस मामले की शिकायत की। इसके बाद अधिकारी पर ऐक्शन हुआ है। पौड़ी के पुलिस अधिकारी को हटाकर नरेंद्र नगर पीटीसी (पुलिस ट्रेनिंग सेंटर) भेजा जा रहा है। सुयाल का टिहरी गढ़वाल के नरेंद्र नगर में पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज (पीटीसी) में ट्रांसफर का आदेश 17 अगस्त की शाम को आया।
पुलिस मुख्यालय की एएसपी जया बलोनी को कोटद्वार का नया एएसपी नियुक्त किया गया है। राज्य गृह विभाग द्वारा ट्रांसफर के आदेश में देखा गया कि इसमें किसी भी कारण का उल्लेख नहीं किया गया है। सुयाल इस मुद्दे पर अपनी टिप्पणी साझा नहीं करना चाहते थे। उन्होंने कहा, ‘मैं शाम तक नई पोस्टिंग ज्वाइन कर लूंगा।’
सुयाल के करीबी एक पुलिस अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, ‘अल्प सूचना पर उन्हें सीएम धामी के आगमन के बारे में सूचित किया गया था।  इसलिए हम हेलीपैड पर (प्रोटोकॉल के अनुसार) उन्हें लेने के लिए दौड़े। हमें शून्य यातायात सुनिश्चित करना था और भीड़ प्रबंधन जैसी अन्य व्यवस्थाएं करनी थीं क्योंकि स्थानीय लोग पहले से ही आपदा प्रबंधन से नाराज थे। वह (सुयाल) इस संबंध में महत्वपूर्ण कॉल कर रहे होंगे।’
कोटद्वार में इस मानसून सीजन में बारिश से संबंधित घटनाओं के कारण व्यापक क्षति देखी गई है। इस महीने की शुरुआत में भारी बारिश के बाद विभिन्न इलाकों में कई घर कीचड़ और पानी से भर गए थे। मालन नदी सहित नदियों पर बने पुल ढह गए, जिससे सड़क संपर्क प्रभावित हुआ। वैकल्पिक मार्गों की पहचान करने के अलावा यातायात की आवाजाही में कोई परेशानी न हो यह सुनिश्चित करने के लिए अस्थायी पुल बनाए गए हैं। देहरादून में भारत मौसम विज्ञान केंद्र के आंकड़ों के अनुसार, 1 अगस्त से, पौडी गढ़वाल जिले में 288.9 मिमी सामान्य वर्षा दर्ज की गई है।